मोदी सरकार बेरोजगारों को नए साल में नए तोहफे दे रही है. साल 2019 के पहले दिन यानी 1 जनवरी से मोदी सरकार बेरोजगारों के लिए 'वरुण मित्र योजना' की शुरू कर रही है, जिसके तहत सरकार आपको तीन हफ्ते की मुफ्त ट्रेनिंग देगी. ये कार्यक्रम मिनिस्ट्री ऑफ MNRE और NISE की ओर से संचालित है. इसे सोलर वाटर पम्पिंग 'वरुण मित्र' कार्यक्रम कहा जाता है.
इस ट्रेनिंग के बाद आपको अच्छी नौकरी मिलेगी. वहीं, कम सैलरी पाने वाले लोग ज्यादा कमा सकते हैं. इस ट्रेनिंग को आप कैसे हासिल कर सकते हैं और इससे आपको क्या-क्या फायदा मिल सकता है? आइए जानते हैं.
इस कार्यक्रम का मकसद रिन्यूएबल एनर्जी, सोलर रिसोर्स असेसमेंट और सोलर फोटोवोल्टिक, साइट फिजिब्लिटी, वाटर टेबल, सोलर वाटर पम्पिंग कंपोनेंट साथ ही डीटी कंवर्टर, इंवर्टर, बैटरी, मोटर्स, पम्प मोटर, इंस्टॉलेशन ऑफ ग्रिड एंड स्टैंड अलोन सोलर पीवी वाटर पम्पिंग सिसस्टम के बारे में लोगों को ट्रेंड करना है. इसके अलावा सोलर पीवी वाटर पम्पिंग सिस्टम के लिए सेफ्टी प्रेक्टिस, ऑपरेशन एंड मेंटनेंस, टेस्टिंग व कमीशनिंग की भी जानकारी दी जाएगी.

सिर्फ 21 दिनों के बाद मिल जाएगी नौकरी!

120 घंटे की होगी क्लास- आपको बता दें ट्रेनिंग 1 जनवरी से 19 जनवरी 2019 के बीच होगी, जिसमें कुल 120 घंटे क्लास दी जाएगी. कार्यक्रम से जुड़ने की अंतिम तारीख 28 दिसंबर थी. इस कार्यक्रम के तहत क्लास रूम लेक्चर के अलावा प्रैक्टिकल, फील्ड विजिट और इंडस्ट्रियल विजिट भी कराई जाएगी. ट्रेनिंग फ्री में मिलेगी, लेकिन अगर आप हॉस्टल में रहना चाहते हैं तो 600 रु. प्रति दिन देने होंगे.
ये ट्रेनिंग लेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक, मैकेनिकल, आईएंडसी में डिप्लोमा होल्डर्स, ग्रेजुएट इंजीनियर, सोलर एंटरप्रेन्योर्स, पीएससू अधिकारी के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है....और पढ़ें>>>

अगली खबर>>>                             पिछली खबर>>>


Gullimaar



Gullimaar