Recents in Beach

कोर्ट के आदेश का सम्मान पर मध्यस्थता स्वीकार नही : महंत सुरेश दास :- JNI NEWS

दिगंबर अखाड़ा अयोध्या के महंत सुरेश दास ने शनिवार को कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण मसले का हल मध्यस्थता से  निकाला नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि इसके लिए जिन तीन लोगों के नाम तय किए गए हैं, उनके पक्ष में कोई नहीं है। सतबहिनी नदी तट स्थित राम मंदिर प्रांगण में आयोजित रामचरितमानस एवं विष्णु महायज्ञ में शामिल होने आए महंत सुरेश दास ने कहा की सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हम सम्मान करते हैं, लेकिन मध्यस्थता के लिए तैयार नहीं हैं।

                                                  महंत सुरेश दास facebook photo                   

उन्होंने कहा कि जिस तरह से हाईकोर्ट ने राम मंदिर होने का फैसला सुनाया था, उसी तरह सुप्रीम कोर्ट को भी 100 करोड़ हिंदुओं की भावनाओं का ध्यान रखते हुए फैसला सुनना चाहिए, क्योंकि मध्यस्थता के लिए हम सब तैयार नही हैं। बेहतर होगा कि केंद्र सरकार और यूपी की योगी सरकार इसको लेकर प्रभावी कदम उठाए।




आपको बता दे की सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता समिति में खलीफुल्ला,श्री श्री रविशंकर और वरिष्ठ वकील श्री राम पंचू को शामिल किया गया है। महंत सुरेश दास ने कहा कि श्रीश्री रविशंकर अगर यह कह भी दें कि वहां मस्जिद और मंदिर दोनों बनें तो हम यह मानने वाले नहीं हैं और  उन्होंने कहा कि पूरे देश में बाबर के नाम पर कहीं भी  कोई भी मस्जिद नहीं बनने दी जाएगी। अयोध्या में तो इसकी सहमति देने का सवाल ही नहीं उठता

चुनावी हलचल, उत्तर प्रदेश की पूरी सीटों की खबर, हर पार्टी, हर प्रत्याशी पर नज़र।

Gullimaar