सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव शनिवार को पार्टी मुख्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। जिसमे उन्होंने रामपुर में उर्दू गेट ध्वस्त करने पर कहा कि अगर भाजपा को उर्दू से इतनी ही नफ़रत है तो ‘मुमकिन है‘ नारे पर भी रोक लगा देना चाहिए।

चकबंदी लेखपाल की सीधी भर्ती प्रक्रिया निरस्त

अखिलेश यादव ने कहा कि वाराणसी से कानपुर और नोएडा तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसलिए दौड़ लगा रहे हैं ताकि चुनाव से पहले पुराने कामों को नया दिखा सके। भाजपा ने लोकतंत्र में एक नई परंपरा शुरू की है, उद्घाटन का उद्घाटन और शिलान्यास का शिलान्यास। लेकिन प्रदेश जनता जानती है कि भाजपा को रोकने की ताकत सिर्फ सपा-बसपा-रालोद गठबंधन में ही है।



अखलेश यादव ने कानपुर व उन्नाव के संभावित प्रत्याशियों और प्रमुख कार्यकर्ताओं  से चुनावी रणनीति पर भी चर्चा की।उन्होंने  कहा कि पांच वर्ष के कार्यकाल में भाजपा की केंद्र सरकार सपा सरकार द्वारा बनाए गए आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे जैसा एक भी एक्सप्रेस-वे नहीं बना सकी। उसकी कार्यक्षमता इतनी भी नहीं कि एक पुल भी बना सके। सपा सरकार ने लखनऊ में मेट्रो परियोजना शुरू की थीं। सपा की सरकार बनने पर लखनऊ से उन्नाव तक मेट्रो रेल चलवाएंगे।

चुनावी हलचल, उत्तर प्रदेश की पूरी सीटों की खबर, हर पार्टी, हर प्रत्याशी पर नज़र।

उन्होंने ये भी कहा कि नोटबंदी के दौरान जनता का धन बैंकों में जमा हुआ था जिसे नीरव मोदी जैसे कारोबारी लूटकर विदेश भाग गए। किसान कर्ज से बहुत परेशान हैं। उन्होंने कहा कि जनता को भाजपा की मार्केटिंग और ब्रांडिंग से सावधान रहना चाहिए। उसका स्वदेशी आंदोलन पूरी तरह से एक धोखा है।

JNI NEWS